Being Un‘fair’

Once a girl whispered to the mirror, “Hey! I am so dark.” The mirror reiterated. But, the mind said something different, “So what! You are intelligent.” The mind is not uttering something unusual. It’s just echoing the words of our society, where we consider intelligence as a compensation for white skin. You might have heard people saying, “S/he is not fair, ATLEAST s/he is good with her or his academics.”  Be it energy, Bhagwan, Allah, Jesus or whosoever created us, did an experiment with a pigment called Melanin. This pigment became the determining factor for our skin, eye and hair colour. But the one, who gave us birth, did not distribute it equally. Apparently the ones who got more should have been privileged but the case became quite the opposite.  Our creator never knew the consequences of this unequal distribution.  Well, Indians must know it, as they are the perpetrators of extreme racism. One just needs to pick up a Sunday newspaper and read the matrimonial advertisements, which demand that a bride should be FAIR and LOVELY.

The concept of racism emerged during the 19th century, when scholars started assuming that humans can be divided into several races, which can be arranged hierarchically as they are on different levels of evolution. The Frenchman Comte Arthur de Gobineau divided humanity into three races-white, yellow and black, placing the white on the top of the ladder and black in the bottom. By moulding the views of theorists such as Charles Darwin and Herbert Spencer, new phenomena of Social Darwinism emerged emphasizing the concepts of natural selection and survival of the fittest in human society. These pseudo- scientific concepts made it the birthright of the Whites to exploit the so called Blacks. The Dutch who invaded South Africa in the 16th century, named the indigenous tribes as Hottentots (Khoikhoi) and Bushman (San). Both these terms conferred a sub-human status to these people. A large number of Africans were sailed through the Atlantic to the New World and sold as slaves to work on plantations. The colonised subjects of the European powers were thought to be uncivilized and barbarous, who could not govern themselves. In all these examples we see a common pattern, which is judgement based on one’s physical appearance. Barring people from their natural rights only on the basis of those physical features, which seem peculiar to one set of people, was the trend till the 20th century.

Indian television is full of advertisements that endorse skin whitening creams, soaps and talcum powders, pills and what not. Some brands even link fairness to a person’s career achievements. The Bollywood role models of this generation act as the brand ambassadors of such products, not contemplating about its serious consequences. Equating fairness with beauty has become so commonsensical that we have forgotten to question such nonsense. Indian children grow up in an atmosphere where these absurd concepts are regularly being discussed and acted upon, which leads to racism’s perpetuation in our society. The notion of fairness has penetrated the social media too. The Instagram generation never uploads a picture without using colour lightening and brightening filters. We might contend ourselves by thinking that it is a colonial legacy. Well, even if it is, then why are we carrying it forward, even after knowing that it is a farce? Skin colour is NOT a marker of a person’s physical or mental abilities, I repeat it never was and never will be of any importance.

The skin is just a cloth to cover our flesh. The cloth might be of any colour, but the material inside is exactly the same among all of us. Talking about the soul might seem a bit philosophical so let us ponder upon much easier stuff. When we see a childhood picture of ourselves, we exclaim, “Oh! This is me”. But if we compare our outer appearance to that innocent “me”, we can surely make out the difference that time has created over so many years. So, do we ever wonder that who is this “me”; we are talking about, when we see our old picture? Means there is something unchangeable inside us and that is what we really are and not this outer skin covering. Even after growing old when our skin will be saggy, that same “me” will remain inside. Life is all about knowing this inside “me” of ourselves and of others, rather than judging people on the basis of those age old parameters. It is high time that we stop believing and perpetuating such myths. And as they say, “True people fall in love with souls, not faces”.

Kriti Tripathi

Existentialist Paradise….

existentialist crisis

1.Existentialist paradise….

A chimera an illusion
A diversion from the
Misery of your existence
A place to be imagined
Based on your perceived
Sense of pleasure

You try to free yourself
From the clutches of life
You try to break away
The walls that restricts you
Where relations kinsmen
Are no longer required
Where you can massage
Your body and your egos

Where you move from
One dull, listless, meaningless life
To a happening, fascinating
And a meaningless life
Where no other can gaze you
And make you feel small
For Paradise is a place
Where you fetishize on your own
Where you are full of, fed with
Different versions of commodities
And you end up being
Another version of commodity

Where you finally stop making
Sense of the world and realize
That the whole world
Is a place very futile
And you no longer care
Because you are fetishized
By the fetish itself.

 

2. Life is what life does

life is a mirage
a labyrinth an illusion
the whole purpose of existence
is to find a purpose of existence
to live with an identity
that is not mine
life is a ring
and you are thrown into it
you run, you slip
you growl and you kick
you cry and you shout
and learn all this while
how actually to fight
life is the dew the mist
and the fog
that blurs your vision
so that you can’t see
that everything is futile
life is a trap of a better tomorrow
or nostalgic remembrance of the dead-decayed past
life is the false hope
that you are alive
life is the fear of death
that keeps you awake
life is the creepy realization
of your mundane existence
life is what life does
nothing at all
nothing at all!!
3. Oppressed by  me….
I am oppressed
In every nook and corner
Through my very nature
Through my very existence
And I can’t cry alas
For I have internalized my oppression
I can’t complain oh god
For it is part of my being
I am not what I think I am
And I can’t complain
For I am my own oppressor
I am harassed
Whenever I try to exist
Beyond the shadows of
The existence bestowed on me
I am harassed
When I refuse
To condition according to
The need of society
When I gaze the
Gaze of patriarchy
When I revolt against the
Visible vestiges of my privilege
When I try to stop being
Fetish for someone else
Then I am devoid of
My own identity
The cloak of my perceived self
Masquerading the real me
Is snatched away from me
And I can’t do anything
For I am no longer me….
4. Slave of mine, master of mine….
the dialectic of consciousness
the labyrinth of existence
the crisis that unfolds
the mystery never resolves
my name- oh its not mine
someone named me and i am fine
why was i born- oh i don’t know
my parents took the decision
and i am the byproduct
now i want an identity
oh the society gave me many
my name, religion, caste, class, creed
language to articulate all emotions
a brigade of kinsmen and relations
i never knew who am i really
a reality, a consciousness
a dream, chimera, fantasy
a robot with a heart and mind
an animal with an erected spine
a phantom, a particle, an atom, a mole
a sperm, a cell, plasma, none of all
not energy, nor ray, nor wave or quantum
many identities i have
but none of my owni am not the stone that you can throw at will
nor am i the chestnut fruit
that falls now and then
i am the slave of mine
and the master of perceived
identity of mine
in between these two extremes
somewhere lies my existence

i asked, asked, asked and asked
i asked my present
and look into the past
my life is mess and i don’t know why
may be because i don’t know who am i

5. I am dead but I can’t die…..
death is the realization
that something in you
was alive till now
death comes with an assumption
that your existence was real
and not a mere facade
thousand deaths i die
in my heart every day
my wisdom is in comatose
my emotions paralyzed
my senses seem to be mere illusion
i am dead but i can’t die
to bear the brunt of my existence
i am still alive
to live not once
and die innumerable times
i am still alive
no hope no reason to live
but i am still alive
i am dead for me
but for the world
i am still alivei have the obligation to live
but not the right to die
my senses seem to be mere illusion
i am dead but i can’t die

मेरी आँख का काँटा….

मेरी आँख का काँटा मेरी आँखों को चुभता तो है पर दूसरो के आँखों में ज़रा सी धूल मुझे अधिक बेचैन कर देती है. वो धूल इसलिए अधिक दिखती है क्यूंकि दूसरो को परखना खुद को परखने से बहुत सरल होता है. और हो भी क्यूँ न, ये हमारे अहं की तृप्ति जो करता है. अपने स्वयं को जिस सांचे में ढाल लिया है हम चाहते है दुसरे भी उसिसांचे में ढल जाए. एक आस्तिक एक नास्तिक को हेय दृष्टि से देखता है और नास्तिक व्यक्ति सामने वाले को मुर्खाधिराज की उपाधि देने में देर नहीं लगाता. हेगेल ने कहा था कि “हर विचारक के अनुयायी यही समझते है कि उन्ही को एकमात्र सत्य व सर्वगुण संपन्न दर्शन की प्राप्ति हुई है, और यही कारण है कि वो अन्य सभी दर्शनों को हीन व अधूरा मानते है. ये अनुयायी इस विचार से प्रेरित है कि इनका दर्शन अपरिवर्तनीय, संपूर्ण व अंतिम सत्य है, इससे आगे कुछ और नहीं जानने को और इसके अलावा कोई और मार्ग नहीं है जानने का. अतएव ये सत्य प्रश्न व शंकाओ से परे है और किसी भी  आलोचना से इस ज्ञान की रक्षा आवश्यक है. ये दार्शनिक कदाचित ये नहीं समझ पाते कि सत्य की अनेकानेक परिभाषाएं वास्तव में सत्य का विस्तार करता है”.

मेरी आँख में लगी धूल  तुम्हे दुखी नहीं करती है ये तो तुम्हारा तरीका है अपनी शक्ति और सामर्थ्य के प्रदर्शन का. पावर हर जगह है बस हम कैसे उसका इस्तेमाल कर सकते है इसके बहुत से तरीके है. मेरी आँख में धूल के कण हम ढूंढें न ढूंढें लोगों के दिलो में कांटे ज़रूर बो देते है. और इस कटुता को छुपाने के बहुत से बहाने है हमारे पास- “मैं तो सच बोलने में यकीन रखता हूँ. सच तो हमेशा कड़वा होता है”. जी नहीं बंधु सत्य हमेशा कड़वा हो ये आवश्यक नहीं, काफी कुछ बोलने वाली की नीयत पर निर्भर करता है. जो दिल दुखाकर पूछते है कि “मैंने कुछ गलत बोला क्या?” जी हाँ बंधु. कई बार दोस्त हंसी मज़ाक में दूसरो को गालियाँ भी दे देते है और कोई बुरा नहीं मानता और कई बार हलकी फुलकी कोई छोटी सी बात बहुत गहरी चुभ जाती है. बोलने वाले की नीयत और सुनने वाले की सहनशीलता दोनों की परीक्षा है ये.

हाँ ये बात सत्य है कि ये बताना सम्भव नहीं कि कोई व्यक्ति आपकी किस बात पर बुरा मान ले. ये बताना कदापि संभव नहीं कि सामने वाला व्यक्ति आपकी बात को किस तरह ग्रहण करता है. “बुरा मान जाना” या “आपत्ति होना” अपने आप में एक मनोविज्ञान है जिसमे विस्तृत विमर्श की आवश्यकता है, और इसलिए इस विषय को अगले लेख के लिए छोड़ देना बेहतर है. फिलहाल प्रश्न ये उठता है कि तेरी आँखों का मैल मेरी आँखों के कांटे से अधिक क्यूँ चुभता है. क्या इसलिए कि मेरी आँखों के कांटे ने मुझे इस कदर अँधा कर दिया कि अपनी आत्मा का अस्तित्व हमें नज़र नहीं आती. हम एक ऐसी ज़िन्दगी जी रहे है जो हम अपने आप के लिए नहीं बल्कि दूसरो के लिए जीते है, हर ख़ुशी को हर गम को तोलकर देखते है दूसरो के साथ. तो अगर मेरी एक आँख फूटी है तो मेरे पडोसी की दो फूट जाए. मेरे ६० नंबर बुरी बात है, मेरी दोस्त के ५५ आये दिल को थोडा सुकून मिला, खुद की आशाओ से हार गया लेकिन सामने वाले से तो जीत गया. मेरा अस्तित्व अस्तित्व कम अहं अधिक है. और शायद इसलिए हम दूसरो की आँखों का धूल  देखते है कि अपनी आँखों के कांटे से अपना ध्यान हटा सके.

हम सब नेता बनना चाहते है हमारे एक भैया कहते है. सच भी है, हम अपना ज्ञान तब तक अधूरा मानते है जब तक १० लोगों के सामने उसका पांडित्य प्रदर्शन न कर ले. ऐसे में ज्ञान का उद्देश्य हमारे अहं की तृप्ति हो जाती है. दूसरो के समक्ष खुद को ज्ञानी साबित करना, बेहतर साबित करना अपने आप में अलग अनुभूति है. वास्तव में हम पूरे संसार को या तो अपने प्रतिरूप के रूप में देखना चाहते है अथवा अपने अनुयायी के रूप में. मैं भी क्यूँ लिख रहा हूँ शायद इसलिए कि आप मेरी वाहवाही करे. आलोचना करेंगे तो मैं उसका प्रतिकार करूँगा क्यूंकि आपने मेरे लेख में मेरी आँख की धूल देख ली अब आपके कमेंट्स में आपके आँखों की धूल देखूंगा.

बाइबिल के न्यू टेस्टामेंट के गोस्पेल ऑफ़ मैथ्यू के सातवे अध्याय में लिखा है बहुत खूब-

१.Judge not, that ye be not judged.
२ .For with what judgment ye judge, ye shall be judged: and with what measure ye mete, it shall be measured to you again.
३.And why beholdest thou the mote that is in thy brother’s eye, but considerest not the beam that is in thine own eye?
४.Or how wilt thou say to thy brother, Let me pull out the mote out of thine eye; and, behold, a beam [is] in thine own eye?
५.Thou hypocrite, first cast out the beam out of thine own eye; and then shalt thou see clearly to cast out the mote out of thy brother’s eye.

मुझे नहीं लगता इन पंक्तियों को समझाने की आवश्यकता है. हाँ भले ही लोगों को जज करना एक सामान्य मानवीय क्रिया भी हो सकती है, और इसमें कोई गुरेज़ भी नहीं, बर्शते नीयत सही हो. हर इन्सान अन्दर ही अन्दर इस बात से वाकिफ होता है कि उसने कोई बात क्यूँ कही है. तो कृपया-“तुम नाराज़ क्यूँ हो गए, मैंने ऐसा क्या कह दिया” वाली भोली शक्ल वाला दिखावा न ही करे तो बेहतर है. क्यूंकि फिराक गोरखपुरी जी बहुत सही कह गए है-

“जो मुझको बदनाम करे है काश वो इतना सोच सके;

मेरा पर्दा खोले है या अपना पर्दा खोले है”

इन सब बातों ने मेरी आदत छूटेगी न आपकी, बस इतना तो कर ही सकते है कि दूसरो की आँखों की धूल को देखते देखते कभी कभी अपनी आँखों से काँटा निकले का भी प्रयास कीजियेगा.क्या पता आँखों के मैल से अधिक भी कुछ दिखने लगे. और वो नहीं गाहे बगाहे कभी कभी अपने गिरेबान में भी झाँक कर देख लेना, क्या पता दूसरो के मीन मेख खोजते हुए अपने मन में कितनी कालिख पोत दी हो हमने. और ख़ास तौर पर उन लोगों के लिए जो दूसरो में कमियाँ खोजते है, किसी के व्यवहार में, किसी के विचार में, किसी के आचार में, और जिनको कुछ नहीं मिलता वो शक्ल-सूरत में कमियाँ खोजते है. विचार की कमी खोजने को आलोचना समझ सकते है लेकिन जो आपके शरीर का आपके रूप का मखौल उदय वो तो निरीह वैमनस्यता ही है.

बुरा जो देखन मैं चला, बुरा न मिलिया कोय,

जो दिल खोजा आपना, मुझसे बुरा न कोय।

“आत्महत्या”आखिर क्यों ?

-अक्षय कुमार डाबी

suicide

 

जिसने तुमको जन्म दिया,

उनको छोड़ जाओगे।
आएगी तुम्हारी याद,
तड़पता उनको छोड़ जाओगे।
क्या हक़ था तुम्हरा जो तुमन छीन ली जिंदगी अपनी,

क्या उनके अहसानो को योंही बोल जाओगे।
सजाये है जो सपने उन्होंने तुमसे ,
क्या हक़ नही उन्हें उनपर जीने का।
जो कि थी जिद तुमने सब कुछ पाने की ,
क्या अब हक़ नही तुम्हरा कुछ उन्हें देने का।
माना कि तुम्हारी मुश्किल बहुत होगी ,
पर यो मरने से तो मुश्किल कम नही होगी।
कुछ कर ऐसा की दुनिया देखे तुम्हे ,
यो खुदारी की जिंदगी जीने का हक़ नही तुम्हें।

 

सुसाइड……

“अगर हिम्मत नहीं थी तो मरने क्यूँ  आया?”

“अगर इतनी ही हिम्मत है तो मर क्यूँ रहा है”?

इन दो पंक्तियाँ गूढ़ विमर्श छुपा हुआ है. हमारे समाज में आत्मदाह को लेकर जितने विचार नहीं है उतनी भ्रांतियां है. हम लोग इस विषय पर बोलने को आतुर है पर समझने को अग्रसर नहीं. जीवन में सभी को कभी न कभी ये ख्याल आता है कि आखिर इस ज़िन्दगी का मतलब क्या है? क्यूँ जी रहा हूँ मैं? ज़िन्दगी बेज़ार लगती है और मौत आसान रास्ता. पर हम में ज़्यादातर लोग इस रास्ते को अख्तियार नहीं करते, शायद मौत का डर शायद ज़िन्दगी का मोह, शायद घरवालो की चिंता शायद दुनिया का ख़याल, बहुत से कारण होते है कि पाँव ठिठक जाते है. पर हमारे समाज में विडंबना अजीब है, हम लोगों को उनके फैसलों के लिए जज करते है. खासतौर पर उनके लिए जिनकी आत्मदाह का प्रयास विफल हो जाता है. सुसाइड किसी के मन की कमजोरी है या जुझारूपन की कमी ये निश्चित करने का अधिकार किसी को भी नहीं. “मेरे सामने भी तो आई थी ये समस्या मैंने तो आत्मदाह नहीं किया” ये वो बेहूदा वक्तव्य है जो टूटे हुए इंसान को और तोड़ने का काम करता है. जीवन की आशा जिसमे खो गयी हो उसपर सवाल उठाकर आप सिर्फ उसको और नीचे गिरा सकते हो. सुसाइड का तो आधार ही ये है कि जब इंसान को जीने का कोई रास्ता नहीं दिखता (यद्यपि रास्ते होते है). ज़रूरी नहीं कि आत्मदाह सोच समझ के किया जाए, कई बार तैश में आकर या क्षणिक असंतुलन का भी परिणाम होता है पर ऐसा भी नहीं कि आत्मदाह मूर्खता है. किसी के लिए उसका जूता खो जाना भी बहुत बड़ा दुःख है, निर्भर करता है व्यक्ति की मनोवृत्ति क्या है. समस्या तो ये भी है कि हमारे समाज में मनोरोगी को पागल और मनोचिकित्सक को पागलो का डॉक्टर मान लिया जाता है. तो अगर आपको समस्या भी है तो आप बताएँगे नहीं और बताएँगे नहीं तो आपकी कुंठा आपको अन्दर ही अन्दर खा जाएगी. और फिर जो आत्मदाह करने जायेगा वो महज एक खोखला शरीर होगा.

न दिल चाहिए न दर्द चाहिए

न आहें हमें कोई सर्द चाहिए

न रिश्तो का ढोंग न नातों का नाम

रहने दो हमें कहीं गुमनाम

गुमनाम हूँ जहां आराम है वहीँ

है नाम बड़ा जिसका नाम ही नहीं.

आत्मदाह करने वाला व्यक्ति वास्तव में अपनी अस्मिता को खो चुका होता है या अपने अस्तित्व से संघर्ष कर रहा होता है. अपनी काय को नष्ट करने का एक अभिप्राय ये भी है कि हम अपनी काया को अपना अस्तित्व मानकर बैठे है. मैं यहाँ आत्मा परमात्मा के विषय में बात नहीं कर रहा अपितु उस सत्य को इंगित कर रहा हूँ जो कई सालो पहले sartre ने कहा था- हम स्वयं को को चेतना के रूप में देखते है और दुसरे हमें काया के रूप में. आशय ये है कि जब हम आत्मदाह करने जा रहे है तो हम अपने अस्तित्व को भूला बैठे है. हम दिखती है तो बस एक काया. सुसाइड को जज करने से पहले उसे समझने की ज़रुरत है. हम सब को सहारा चाहिए अपना, दूसरो का, कम से कम भगवान् का. जब व्यक्ति आत्मदाह के लिए प्रेरित होता है तो वास्तव में वो अपना ही सहारा नहीं बन पाता. और इसलिए सुसाइड हर समय एक नया विमर्श खड़ा कर देता है- सुसाइड करना क्या वास्तव में इंसान का अपने शरीर पर हक को प्रमाणित करता है? या वास्तव में ये वो पल है जब मानव अपने आप पर ही हक खो बैठता है. प्रश्न विकट है  इसपर विमर्श चाहिए वार्तालाप चाहिए आक्षेप नहीं विवाद नहीं.

कितना आसान है रुला देना किसी को

मुश्किल है ये कितना भुला देना किसी को

हूँ अँधेरे में कब से सवेरा चाहिए

सवेरा चाहिए न अँधेरा चाहिए

न ज़िन्दगी हमें और ज़र्द चाहिए

न दिल चाहिए न दर्द चाहिए

न आहें हमें और सर्द चाहिए….A New Design (2)

हैरान हूँ

कृति त्रिपाठी

इंसान के इंसान को ना समझ पाने से परेशान हूँ,

बेहद हैरान हूँ।

इस झूठे संसार से अनजान हूँ,

बेहद हैरान हूँ।

जीती जागती इस दुनिया में बेजान हूँ,

बेहद हैरान हूँ।

क्या इतना आसान है

किसी की आत्मा को क्षण भर में कुचल देना?

क्या इतना आसान है

किसी के सपनों को पल भर में धूल कर देना?.

क्या इतना आसान है

किसी बिलखते हुए के आंसुओं को अनदेखा कर देना?

क्या इतना आसान है

पाप को भी पुण्य साबित कर देना?

क्या इतना आसान है

मंझधार में साथ छोड़ देना?

क्या इतना आसान है

किसी की आँखों में देखकर झूठ बोलना?

क्या इतना आसान है

किसी को उसके आवरण से तोलना?

क्या इतना आसान है

किसी के हृदय पर वार करना?

क्या इतना आसान है

किसी के वजूद पर सवाल खड़े करना?

क्या इतना आसान है

किसी के सच को झूठ करना?

क्या इतना आसान है

किसी की ईमानदारी को बेईमान करना?

क्या इतना आसान है

खुदा के सामने भी खुद को काफिर करार करना?

क्या इतना आसान है

खुद की अंतरात्मा को झुठलाना?

क्या इतना आसान है

अपनों से बेज़ार हो जाना?

क्या इतना आसान है

वाकिफ होते हुए भी अनजान हो जाना?

क्या इतना आसान है

किसी के जीवन के साथ खेल जाना?

क्या इतना आसान है

इंसान होते हुए भी इंसानियत का खो जाना?

क्या इतना आसान है

ये सब करते हुए भी अपनी भूल जान ना पाना?

अगर ये सब आसान है,

तो इस आसानी को ना समझ पाने की अपनी नाकामी पर,

मैं बेहद हैरान हूँ।

मेरा होना…..

-संतोष कुमार

download

पल भर को मन को खुश कर जाती

झूठी आशाएं

कडवी हकीक़त से दूर ले जाती

झूठी आशाएं

दिल में एक मिठास जगाती

झूठी आशाएं

सच्ची सी लगती है ये

झूठी आशाएं

आँख खुलते ही टूट जाती है ये

झूठी आशाएं

आती है हँसाकर जाती है रुलाकर

झूठी आशाएं

दिल में दर्द दे जाती है

झूठी आशाएं

तारो की तरह टूट जाती है ये

झूठी आशाएं

बड़ी झूठी होती है ये

झूठी आशाएं

 

 

 

अपने होने को होना कहूँ तो न होना क्या है। जब वजूद पर न यकीन हो न उससे कोई आशा तो ऐसा वजूद हम पर बोझ नहीं तो क्या है। रिश्तों के साथ समस्या बड़ी है कुछ बने बनाए आते है कुछ हम खुद बनाते है पर एक बार बना लेने पर रिश्ते बेड़ी बन जाते है। रिश्ते निभाना क्यों जरूरी है ये तो बाद का सवाल है रिश्ता होना ही क्यों चाहिए। अगर हम अकेले खड़े हो तो क्या हमारा अस्तित्व है, अगर नहीं तो ऐसे अस्तित्व का करना ही क्या जो हमारा है ही नहीं जो दूसरों पर निर्भर है। मैं दुनिया में आया मेरा फैसला नहीं था तो इस ज़िन्दगी को निभाना हमारी ज़रुरत क्यों। अगर भगवान् ने सचमुच हमें बनाया है तो मैं पूछना चाहता हूँ कि क्यों? दुनिया बनायीं ही क्यों? हमको बनाया ही क्यों? हमको ज़बरदस्ती कुएँ में धकेल देते है और कहते हो इसी में रहो और अगर बाहर निकलना हो तो मेरा आह्वाहन करो। मुझे दया आयी तो तुम्हे बाहर निकाल दूंगा। अगर उभरना ही हमारी मंज़िल है तो हम खायी में जाए ही क्यों? पहले जहन्नुम सी ज़िन्दगी देते हो फिर कहते हो अपना अस्तित्व खोजो। अपने जीवन का उद्देश्य खोजो। परंतु क्या जीवन का उद्देश्य खोजना ही सबसे बड़ा उद्देश्य नहीं है। इसी उद्देश्य के बूते तो हम अपनी अस्तित्व की सार्थकता प्रमाणित करेंगे। कोई शास्त्र पढ़ेंगे कोई दर्शन की किताब, कुछ चिंतन करेंगे पर प्रमुखतया जो भी सामने होता है हमारे उसे आत्मसात करेंगे। जिस दिन प्रश्न पूछ लिया उस दिन हमारा अस्तित्ब संकट में पड़ जायगा इसलिए शास्त्रों में विदित है कि ईश्वर पर प्रश्नचिन्ह लगाने वाले उसके कोप के भागी होंगे। तो हम कभी कुछ नहीं पूछते मान लेते है कि हम कुछ है, क्या है नहीं पता, क्यूँ है नहीं पता.

दुनिया के रहस्य जानने निकले है खुद की हमको सुध नहीं है, चाँद तारे तोड़ने निकले है अपने दिमाग में क्या चल रहा है उस सोच तक हमारी पहुँच नहीं. हम बिना भाषा के सोचते कैसे है? क्या बिना भाषा के सोचा जा सकता है, अगर हाँ तो कैसे? अगर ना तो कौन हमें सोचना सिखाता है, कौन हमें बताता है कि मैं मैं हूँ? क्यूँ मैं आईने में देखकर खुद को पहचान लेता हूँ लेकिन लाखों करोडो सालो की साधना से भी खुद को नहीं पहचान पाता. समाज के होने से मैं हूँ या मेरे होने से समाज है, रिवाज़ मैंने बनाये है या मेरे लिए ये रिवाज़ है, ये सांस मेरे लिए बनी है या मैं लेता हूँ तो ये हवा सांस है, क्या मेरी आवाज़ से बनते है ये शब्द या मेरे शब्दों में आवाज़ है? एक भैया कहते है ये “जेहन-ए-अय्याशी” है सब, जितना सोचोगे उतना मज़ा आएगा, तृप्ति मिलेगी सुकून मिलेगा, और सोचने का जूनून मिलेगा. बस जवाब नहीं मिलेगा. क्यूंकि हमें इस सोच में ही इतना मज़ा आ रहा है कि उत्तर तो हम जानना ही नहीं चाहते, और सच तो ये भी है कि उत्तर कुछ है भी नहीं. बस नए सवाल है, बस नए विचार है.

 

कह दूँ सब पॉवर स्ट्रक्चर है, मेरी अस्मिता थोपी गयी है मुझपर मेरा अस्तित्व उसको आत्मसात करना मेरा लक्ष्य है, या मेरा जीवन एक निरर्थक परिपाटी है जिसका अर्थ निकलकर ही जीवन को जीना संभव नहीं. क्यूंकि सबमे ये क्षमता नहीं कि जीवन का अर्थ निकाल सके. तो या तो वो जीवन भर अपने अस्तित्व से अनिभिज्ञ रह जाते है या धर्म, आस्था, मिथकों में अपना अस्तित्व तलाशने लगते है. या बोल दूँ सब ईश्वर की देन है क्यूंकि ये जवाब देते ही सोचने की आवश्यकता समाप्त हो जाती है. जवाब कितना ठोस है नहीं पता, पर कम से कम जवाब तो है, जेहन-ए-अय्याशी तो नहीं. सब कुछ जो होता है उसमे हमारा योगदान सिर्फ कलाकारों का है क्यूंकि करने वाला तो कोई और है. मतलब कुछ भी हो, हमारा अस्तित्व किसी की देन है, हमारा खुद का क्या है ये सवाल फिर से जेहन में आता है, भगवान् आखिर हमारे साथ क्यूँ जुड़ा है इसका जवाब फिर नहीं मिलता. एक बार फिर गोल घेरे में ज़िन्दगी फँस जाती है.

 

और फिर कोई हमें झकझोरता है और कहता है- क्यूँ इतना सोचते हो? सोच सोचकर ज़िन्दगी को और अधिक क्लिष्ट क्या बनाना और सच भी है. जीवन को सुलझाने से बड़ी उलझन कुछ नहीं, मौत से बड़ी ज़िन्दगी की कीमत कोई नहीं. तो क्यूँ ज़िन्दगी को और उलझाया जाए. क्या फर्क पड़ता है कि हमारे होने का कोई आशय नहीं हमारे पास, बस एक एहसास है कि हम है, दूसरो के पास एक नाम है हमें बुलाने को, एक पहचान है हमें याद करने की, जिसे हम मानते है पर जो हमारी  नहीं है. तो ओढ़ लो चादर और खो जाओ अँधेरे में. अस्तित्व के मच्छर काटेंगे तो नहीं.

 

 

जब कल का डर

आज हमे सोने ना दे,

बेहतर है झूठी

उम्मीदों  के सहारे सो जाना