Existentialist Paradise….

existentialist crisis

1.Existentialist paradise….

A chimera an illusion
A diversion from the
Misery of your existence
A place to be imagined
Based on your perceived
Sense of pleasure

You try to free yourself
From the clutches of life
You try to break away
The walls that restricts you
Where relations kinsmen
Are no longer required
Where you can massage
Your body and your egos

Where you move from
One dull, listless, meaningless life
To a happening, fascinating
And a meaningless life
Where no other can gaze you
And make you feel small
For Paradise is a place
Where you fetishize on your own
Where you are full of, fed with
Different versions of commodities
And you end up being
Another version of commodity

Where you finally stop making
Sense of the world and realize
That the whole world
Is a place very futile
And you no longer care
Because you are fetishized
By the fetish itself.

 

2. Life is what life does

life is a mirage
a labyrinth an illusion
the whole purpose of existence
is to find a purpose of existence
to live with an identity
that is not mine
life is a ring
and you are thrown into it
you run, you slip
you growl and you kick
you cry and you shout
and learn all this while
how actually to fight
life is the dew the mist
and the fog
that blurs your vision
so that you can’t see
that everything is futile
life is a trap of a better tomorrow
or nostalgic remembrance of the dead-decayed past
life is the false hope
that you are alive
life is the fear of death
that keeps you awake
life is the creepy realization
of your mundane existence
life is what life does
nothing at all
nothing at all!!
3. Oppressed by  me….
I am oppressed
In every nook and corner
Through my very nature
Through my very existence
And I can’t cry alas
For I have internalized my oppression
I can’t complain oh god
For it is part of my being
I am not what I think I am
And I can’t complain
For I am my own oppressor
I am harassed
Whenever I try to exist
Beyond the shadows of
The existence bestowed on me
I am harassed
When I refuse
To condition according to
The need of society
When I gaze the
Gaze of patriarchy
When I revolt against the
Visible vestiges of my privilege
When I try to stop being
Fetish for someone else
Then I am devoid of
My own identity
The cloak of my perceived self
Masquerading the real me
Is snatched away from me
And I can’t do anything
For I am no longer me….
4. Slave of mine, master of mine….
the dialectic of consciousness
the labyrinth of existence
the crisis that unfolds
the mystery never resolves
my name- oh its not mine
someone named me and i am fine
why was i born- oh i don’t know
my parents took the decision
and i am the byproduct
now i want an identity
oh the society gave me many
my name, religion, caste, class, creed
language to articulate all emotions
a brigade of kinsmen and relations
i never knew who am i really
a reality, a consciousness
a dream, chimera, fantasy
a robot with a heart and mind
an animal with an erected spine
a phantom, a particle, an atom, a mole
a sperm, a cell, plasma, none of all
not energy, nor ray, nor wave or quantum
many identities i have
but none of my owni am not the stone that you can throw at will
nor am i the chestnut fruit
that falls now and then
i am the slave of mine
and the master of perceived
identity of mine
in between these two extremes
somewhere lies my existence

i asked, asked, asked and asked
i asked my present
and look into the past
my life is mess and i don’t know why
may be because i don’t know who am i

5. I am dead but I can’t die…..
death is the realization
that something in you
was alive till now
death comes with an assumption
that your existence was real
and not a mere facade
thousand deaths i die
in my heart every day
my wisdom is in comatose
my emotions paralyzed
my senses seem to be mere illusion
i am dead but i can’t die
to bear the brunt of my existence
i am still alive
to live not once
and die innumerable times
i am still alive
no hope no reason to live
but i am still alive
i am dead for me
but for the world
i am still alivei have the obligation to live
but not the right to die
my senses seem to be mere illusion
i am dead but i can’t die

Thinking Beyond Their Age: An Introspective Analysis

bihar

-Kshitiz Roy

When I was a kid, I found myself in Bihar. And all I was told since class six was aise padho, waise padho. Words like career, inter ka exam, IIT, medical filled the air. You go to Patna and you will feel as if education is always on the top of its mind. So many falana sir, dhimkana sir coaching institutes dot the place; almost on the lines of age old dawa khana which promise masculinity and all, the tall hoardings of coaching institutes promising to turn Patna into Kota tower around the city.

You mount any passenger train in the morning and you are bound to bump into students chanting square roots and the genealogy of Samrat Ashok. And I am not even bringing the Banking SSC scene into the picture. Now in a state, which has always been so much into the awe of sarkari naukri and hence education, in a state, which has produced some of the finest technocrats and bureaucrats coming through the same examination procedure of Bihar education council or as we fondly say Bihar board- what went wrong. I took a stroll down the news feed and found various shades of people, mostly from Bihar indulged in self admonishing, some of them expectedly brought a political angle to it and were eager to guillotine Nitish Kumar and co.

All of that is farce. All of that is bullshit. Biharis don’t need to prove the nation about their educational prowess; because in a state which has historically been devoid of industrial and enterprising ecosystem, education has been our only way out into the mainstream, and this goes beyond those caste borderlines which we are quick to associate with Bihar. Scores of friends and seniors have found themselves in the corridors of the old Patna science college or a nondescript begusarai college to pass out in flying colors in engineering entrance examinations. You see, senior secondary has never been an issue in Bihar. They are taught to think beyond their age- socially and mentally. And therein lies the problem.

About the senior secondary examinations,we fondly call it inter ka exam and don’t give a rat’s ass about it. There were kids who would hate to prepare for 12th physics paper because yaar, IIT-JEE ka paper ki taiyari mein likhne ki aadat choot gayi thi and english toh boss likhe jamana ho gaya. The entire public consensus is heavily skewed in favor of attending those coaching institutes and solving high power books like Resnik Haliday and Irodov. In Bihar, for a large number of inter ke students, read 11th and 12th class wale, there is just no idea of schooling. They find themselves in dingy classrooms situated near a passing sewer, and are thrown into an abyss of formulas. Why? Because cracking a competition ensures a job, and a job ensures the upward mobility- in a state reeling between the twin malaise of class and caste discrimination, a job is the only thing which ensures you freedom. And therefore the coaching, therefore the complete denial of a senior secondary structure which has brought the rot. The teachers in the state sponsored colleges make merry, the kids in the coaching strut around on their bicycle on the streets of Patna without questioning and the parents keep dreaming about that job and the mukti. And for that, the whole senior secondary structure has been re shaped in an industry where questions are sneaked out-churning prodigal science toppers. This is because it simply doesn’t matter.

You see in Bihar, we are taught to think mechanically and practically. And while we think we are always so rational in all our deeds, biharis often forget that times around them changes. And this happens softly. But soft is a word which they don’t understand in Bihar. And till that happens, results like that are only a tip of the iceberg, which should never amaze a true bihari for our state is like that classic brewery where the educational system has been left rotting in order to create fine single malt human resource. To all those comparing the failed students with lalloo k laal, I urge you all to try a ninth class BTC maths test once. Boss fat k 74 ho jaega, kassam se.

मेरी आँख का काँटा….

मेरी आँख का काँटा मेरी आँखों को चुभता तो है पर दूसरो के आँखों में ज़रा सी धूल मुझे अधिक बेचैन कर देती है. वो धूल इसलिए अधिक दिखती है क्यूंकि दूसरो को परखना खुद को परखने से बहुत सरल होता है. और हो भी क्यूँ न, ये हमारे अहं की तृप्ति जो करता है. अपने स्वयं को जिस सांचे में ढाल लिया है हम चाहते है दुसरे भी उसिसांचे में ढल जाए. एक आस्तिक एक नास्तिक को हेय दृष्टि से देखता है और नास्तिक व्यक्ति सामने वाले को मुर्खाधिराज की उपाधि देने में देर नहीं लगाता. हेगेल ने कहा था कि “हर विचारक के अनुयायी यही समझते है कि उन्ही को एकमात्र सत्य व सर्वगुण संपन्न दर्शन की प्राप्ति हुई है, और यही कारण है कि वो अन्य सभी दर्शनों को हीन व अधूरा मानते है. ये अनुयायी इस विचार से प्रेरित है कि इनका दर्शन अपरिवर्तनीय, संपूर्ण व अंतिम सत्य है, इससे आगे कुछ और नहीं जानने को और इसके अलावा कोई और मार्ग नहीं है जानने का. अतएव ये सत्य प्रश्न व शंकाओ से परे है और किसी भी  आलोचना से इस ज्ञान की रक्षा आवश्यक है. ये दार्शनिक कदाचित ये नहीं समझ पाते कि सत्य की अनेकानेक परिभाषाएं वास्तव में सत्य का विस्तार करता है”.

मेरी आँख में लगी धूल  तुम्हे दुखी नहीं करती है ये तो तुम्हारा तरीका है अपनी शक्ति और सामर्थ्य के प्रदर्शन का. पावर हर जगह है बस हम कैसे उसका इस्तेमाल कर सकते है इसके बहुत से तरीके है. मेरी आँख में धूल के कण हम ढूंढें न ढूंढें लोगों के दिलो में कांटे ज़रूर बो देते है. और इस कटुता को छुपाने के बहुत से बहाने है हमारे पास- “मैं तो सच बोलने में यकीन रखता हूँ. सच तो हमेशा कड़वा होता है”. जी नहीं बंधु सत्य हमेशा कड़वा हो ये आवश्यक नहीं, काफी कुछ बोलने वाली की नीयत पर निर्भर करता है. जो दिल दुखाकर पूछते है कि “मैंने कुछ गलत बोला क्या?” जी हाँ बंधु. कई बार दोस्त हंसी मज़ाक में दूसरो को गालियाँ भी दे देते है और कोई बुरा नहीं मानता और कई बार हलकी फुलकी कोई छोटी सी बात बहुत गहरी चुभ जाती है. बोलने वाले की नीयत और सुनने वाले की सहनशीलता दोनों की परीक्षा है ये.

हाँ ये बात सत्य है कि ये बताना सम्भव नहीं कि कोई व्यक्ति आपकी किस बात पर बुरा मान ले. ये बताना कदापि संभव नहीं कि सामने वाला व्यक्ति आपकी बात को किस तरह ग्रहण करता है. “बुरा मान जाना” या “आपत्ति होना” अपने आप में एक मनोविज्ञान है जिसमे विस्तृत विमर्श की आवश्यकता है, और इसलिए इस विषय को अगले लेख के लिए छोड़ देना बेहतर है. फिलहाल प्रश्न ये उठता है कि तेरी आँखों का मैल मेरी आँखों के कांटे से अधिक क्यूँ चुभता है. क्या इसलिए कि मेरी आँखों के कांटे ने मुझे इस कदर अँधा कर दिया कि अपनी आत्मा का अस्तित्व हमें नज़र नहीं आती. हम एक ऐसी ज़िन्दगी जी रहे है जो हम अपने आप के लिए नहीं बल्कि दूसरो के लिए जीते है, हर ख़ुशी को हर गम को तोलकर देखते है दूसरो के साथ. तो अगर मेरी एक आँख फूटी है तो मेरे पडोसी की दो फूट जाए. मेरे ६० नंबर बुरी बात है, मेरी दोस्त के ५५ आये दिल को थोडा सुकून मिला, खुद की आशाओ से हार गया लेकिन सामने वाले से तो जीत गया. मेरा अस्तित्व अस्तित्व कम अहं अधिक है. और शायद इसलिए हम दूसरो की आँखों का धूल  देखते है कि अपनी आँखों के कांटे से अपना ध्यान हटा सके.

हम सब नेता बनना चाहते है हमारे एक भैया कहते है. सच भी है, हम अपना ज्ञान तब तक अधूरा मानते है जब तक १० लोगों के सामने उसका पांडित्य प्रदर्शन न कर ले. ऐसे में ज्ञान का उद्देश्य हमारे अहं की तृप्ति हो जाती है. दूसरो के समक्ष खुद को ज्ञानी साबित करना, बेहतर साबित करना अपने आप में अलग अनुभूति है. वास्तव में हम पूरे संसार को या तो अपने प्रतिरूप के रूप में देखना चाहते है अथवा अपने अनुयायी के रूप में. मैं भी क्यूँ लिख रहा हूँ शायद इसलिए कि आप मेरी वाहवाही करे. आलोचना करेंगे तो मैं उसका प्रतिकार करूँगा क्यूंकि आपने मेरे लेख में मेरी आँख की धूल देख ली अब आपके कमेंट्स में आपके आँखों की धूल देखूंगा.

बाइबिल के न्यू टेस्टामेंट के गोस्पेल ऑफ़ मैथ्यू के सातवे अध्याय में लिखा है बहुत खूब-

१.Judge not, that ye be not judged.
२ .For with what judgment ye judge, ye shall be judged: and with what measure ye mete, it shall be measured to you again.
३.And why beholdest thou the mote that is in thy brother’s eye, but considerest not the beam that is in thine own eye?
४.Or how wilt thou say to thy brother, Let me pull out the mote out of thine eye; and, behold, a beam [is] in thine own eye?
५.Thou hypocrite, first cast out the beam out of thine own eye; and then shalt thou see clearly to cast out the mote out of thy brother’s eye.

मुझे नहीं लगता इन पंक्तियों को समझाने की आवश्यकता है. हाँ भले ही लोगों को जज करना एक सामान्य मानवीय क्रिया भी हो सकती है, और इसमें कोई गुरेज़ भी नहीं, बर्शते नीयत सही हो. हर इन्सान अन्दर ही अन्दर इस बात से वाकिफ होता है कि उसने कोई बात क्यूँ कही है. तो कृपया-“तुम नाराज़ क्यूँ हो गए, मैंने ऐसा क्या कह दिया” वाली भोली शक्ल वाला दिखावा न ही करे तो बेहतर है. क्यूंकि फिराक गोरखपुरी जी बहुत सही कह गए है-

“जो मुझको बदनाम करे है काश वो इतना सोच सके;

मेरा पर्दा खोले है या अपना पर्दा खोले है”

इन सब बातों ने मेरी आदत छूटेगी न आपकी, बस इतना तो कर ही सकते है कि दूसरो की आँखों की धूल को देखते देखते कभी कभी अपनी आँखों से काँटा निकले का भी प्रयास कीजियेगा.क्या पता आँखों के मैल से अधिक भी कुछ दिखने लगे. और वो नहीं गाहे बगाहे कभी कभी अपने गिरेबान में भी झाँक कर देख लेना, क्या पता दूसरो के मीन मेख खोजते हुए अपने मन में कितनी कालिख पोत दी हो हमने. और ख़ास तौर पर उन लोगों के लिए जो दूसरो में कमियाँ खोजते है, किसी के व्यवहार में, किसी के विचार में, किसी के आचार में, और जिनको कुछ नहीं मिलता वो शक्ल-सूरत में कमियाँ खोजते है. विचार की कमी खोजने को आलोचना समझ सकते है लेकिन जो आपके शरीर का आपके रूप का मखौल उदय वो तो निरीह वैमनस्यता ही है.

बुरा जो देखन मैं चला, बुरा न मिलिया कोय,

जो दिल खोजा आपना, मुझसे बुरा न कोय।

“आत्महत्या”आखिर क्यों ?

-अक्षय कुमार डाबी

suicide

 

जिसने तुमको जन्म दिया,

उनको छोड़ जाओगे।
आएगी तुम्हारी याद,
तड़पता उनको छोड़ जाओगे।
क्या हक़ था तुम्हरा जो तुमन छीन ली जिंदगी अपनी,

क्या उनके अहसानो को योंही बोल जाओगे।
सजाये है जो सपने उन्होंने तुमसे ,
क्या हक़ नही उन्हें उनपर जीने का।
जो कि थी जिद तुमने सब कुछ पाने की ,
क्या अब हक़ नही तुम्हरा कुछ उन्हें देने का।
माना कि तुम्हारी मुश्किल बहुत होगी ,
पर यो मरने से तो मुश्किल कम नही होगी।
कुछ कर ऐसा की दुनिया देखे तुम्हे ,
यो खुदारी की जिंदगी जीने का हक़ नही तुम्हें।

 

सुसाइड……

“अगर हिम्मत नहीं थी तो मरने क्यूँ  आया?”

“अगर इतनी ही हिम्मत है तो मर क्यूँ रहा है”?

इन दो पंक्तियाँ गूढ़ विमर्श छुपा हुआ है. हमारे समाज में आत्मदाह को लेकर जितने विचार नहीं है उतनी भ्रांतियां है. हम लोग इस विषय पर बोलने को आतुर है पर समझने को अग्रसर नहीं. जीवन में सभी को कभी न कभी ये ख्याल आता है कि आखिर इस ज़िन्दगी का मतलब क्या है? क्यूँ जी रहा हूँ मैं? ज़िन्दगी बेज़ार लगती है और मौत आसान रास्ता. पर हम में ज़्यादातर लोग इस रास्ते को अख्तियार नहीं करते, शायद मौत का डर शायद ज़िन्दगी का मोह, शायद घरवालो की चिंता शायद दुनिया का ख़याल, बहुत से कारण होते है कि पाँव ठिठक जाते है. पर हमारे समाज में विडंबना अजीब है, हम लोगों को उनके फैसलों के लिए जज करते है. खासतौर पर उनके लिए जिनकी आत्मदाह का प्रयास विफल हो जाता है. सुसाइड किसी के मन की कमजोरी है या जुझारूपन की कमी ये निश्चित करने का अधिकार किसी को भी नहीं. “मेरे सामने भी तो आई थी ये समस्या मैंने तो आत्मदाह नहीं किया” ये वो बेहूदा वक्तव्य है जो टूटे हुए इंसान को और तोड़ने का काम करता है. जीवन की आशा जिसमे खो गयी हो उसपर सवाल उठाकर आप सिर्फ उसको और नीचे गिरा सकते हो. सुसाइड का तो आधार ही ये है कि जब इंसान को जीने का कोई रास्ता नहीं दिखता (यद्यपि रास्ते होते है). ज़रूरी नहीं कि आत्मदाह सोच समझ के किया जाए, कई बार तैश में आकर या क्षणिक असंतुलन का भी परिणाम होता है पर ऐसा भी नहीं कि आत्मदाह मूर्खता है. किसी के लिए उसका जूता खो जाना भी बहुत बड़ा दुःख है, निर्भर करता है व्यक्ति की मनोवृत्ति क्या है. समस्या तो ये भी है कि हमारे समाज में मनोरोगी को पागल और मनोचिकित्सक को पागलो का डॉक्टर मान लिया जाता है. तो अगर आपको समस्या भी है तो आप बताएँगे नहीं और बताएँगे नहीं तो आपकी कुंठा आपको अन्दर ही अन्दर खा जाएगी. और फिर जो आत्मदाह करने जायेगा वो महज एक खोखला शरीर होगा.

न दिल चाहिए न दर्द चाहिए

न आहें हमें कोई सर्द चाहिए

न रिश्तो का ढोंग न नातों का नाम

रहने दो हमें कहीं गुमनाम

गुमनाम हूँ जहां आराम है वहीँ

है नाम बड़ा जिसका नाम ही नहीं.

आत्मदाह करने वाला व्यक्ति वास्तव में अपनी अस्मिता को खो चुका होता है या अपने अस्तित्व से संघर्ष कर रहा होता है. अपनी काय को नष्ट करने का एक अभिप्राय ये भी है कि हम अपनी काया को अपना अस्तित्व मानकर बैठे है. मैं यहाँ आत्मा परमात्मा के विषय में बात नहीं कर रहा अपितु उस सत्य को इंगित कर रहा हूँ जो कई सालो पहले sartre ने कहा था- हम स्वयं को को चेतना के रूप में देखते है और दुसरे हमें काया के रूप में. आशय ये है कि जब हम आत्मदाह करने जा रहे है तो हम अपने अस्तित्व को भूला बैठे है. हम दिखती है तो बस एक काया. सुसाइड को जज करने से पहले उसे समझने की ज़रुरत है. हम सब को सहारा चाहिए अपना, दूसरो का, कम से कम भगवान् का. जब व्यक्ति आत्मदाह के लिए प्रेरित होता है तो वास्तव में वो अपना ही सहारा नहीं बन पाता. और इसलिए सुसाइड हर समय एक नया विमर्श खड़ा कर देता है- सुसाइड करना क्या वास्तव में इंसान का अपने शरीर पर हक को प्रमाणित करता है? या वास्तव में ये वो पल है जब मानव अपने आप पर ही हक खो बैठता है. प्रश्न विकट है  इसपर विमर्श चाहिए वार्तालाप चाहिए आक्षेप नहीं विवाद नहीं.

कितना आसान है रुला देना किसी को

मुश्किल है ये कितना भुला देना किसी को

हूँ अँधेरे में कब से सवेरा चाहिए

सवेरा चाहिए न अँधेरा चाहिए

न ज़िन्दगी हमें और ज़र्द चाहिए

न दिल चाहिए न दर्द चाहिए

न आहें हमें और सर्द चाहिए….A New Design (2)

अश्वत्थामा मारा गया…..

मैं कौन हूँ, ये केवल एक अस्तित्ववादी प्रश्न नहीं है, इस में हमारे तुम्हारे सबके जीवन, समाज और राष्ट्र का सार तत्व छुपा है. मेरा नाम क्या है, और किसी को क्या सरोकार. एक पंछी हूँ बस जो उड़ने को आतुर है, जो मंजिल तलाश रहा है अपनी. और जीवन के पंछियों को न नाम की ज़रुरत है न पहचान की, बस एक उदीश्य और एक मंजिल, यही उसकी ज़रुरत है. पर फिर भी लोग पूछते है कौन हो तुम, पहचान क्या है तुम्हारे, भीड़ में किस से जोड़कर देखते हो खुद को. और तब मैं कहता हूँ कि मैं अश्वत्थामा हूँ, मैं ही क्यूँ आप भी अश्वत्थामा है, हम सब आने जीवन के किसी के किसी क्षण में अश्वत्थामा हो जाते है. हाँ मैं ये बात जानता हूँ कि हम में से कोई अश्वत्थामा नाम से नहीं पहचाना जाना चाहता, एक ऐसे नाम से जिससे महाभारत के युद्ध की क्रूरता और धूर्तता याद आ जाती है. अब भला हम अश्वत्थामा कैसे हुए? इस प्रश्न का सीधा उत्तर है- हाँ हम सब अश्वत्थामा है, पर अश्वत्थामा इंसान नहीं……अश्वत्थामा हाथी!!

महाभारत की कहानी तो सुनी होगी न आपने. पांडव सेना द्रोणाचार्य के नेतृत्व वाली कौरव सेना के समक्ष त्राहि त्राहि कर रही थी, विजय की केवल एक आशा थी द्रोणाचार्य की मृत्यु और उनकी एकमात्र कमजोरी उनका पुत्र अश्वत्थामा. तब पांडवो ने द्रोणाचार्य के वध हेतु अश्वत्थामा का सहारा लिया….. अश्वत्थामा हाथी का. इस महाभारत के युद्ध का सबसे दुखद क्षण था ये केवल इसलिए नहीं कि द्रोण की मृत्यु हुई अपितु उससे अधिक किसी के नाम किसी की पहचान के साथ खिलवाड़ हुआ. आज भी यही होता है. कुछ नामो में भरकर हमारी पहचान निर्धारित कर दी जाती है और जीवन भर कोई पांडव हमारी पहचान को अपने पैरो तले रौंद कर चला जाता है. मेरा नाम किसी और ने रखा, मेरी पहचान मुझे किसी और से मिली, मेरा धर्म मेरा नहीं, मेरी जाति मेरी नहीं, मेरा देश मेरा नहीं. बस मिल गया और मान लिया अपना लिया… और इसमें कोई बुराई. कमी तब हुई जब हमारी इच्छा के विरुद्ध हमपर पहचाने थोपी गयी. किसी ने किसी धर्म से जोड़कर हिंसा की, किसी ने जाति पूछकर पक्षपात, कभी रंग देख्कार भर्त्सना हुई, कभी अशिक्षा का मज़ाक. इन सभी पहचानो का भार जब भी हमारे कंधो ने लादा हा अश्वत्थामा हो गए. जब कुछ हिन्दू कुछ मुसलमानों ने अपनी हिंसा के कारण पूरी कौम का नाम बदनाम किया, तो बाकि सब हिन्दू मुस्लिम अश्वत्थामा हो गए, जब आम आदमी का नाम लेकर किसी ने गाड़ियाँ फोड़ी, आग लगायी और उन्ही आम आदमियों को कष्ट पहुंचाया, तो अपनी गाडी या दूकान के टूटे हुए अवशेषों को निहारता हर शख्स अश्वत्थामा है. जब विचारधारा के नाम पर कुछ “राष्ट्रवादियों” ने कुछ “गैर राष्ट्रवादियों” पर हिंसा को जायज़ ठहराया तो भीड़ में खड़े उन छात्रो ने जो बेवजह बेरहमी से पीटा गया, वो अश्वत्थामा है.

हम सब ही शोषक भी है हम सब ही शोषित भी है. जाने अनजाने हम कभी भीड़ का हिस्सा जब बन जाते है, जब भीड़ की एक आवाज़ से १०० करोड़ पहचाने जाते है, जब लोगो के हुजूम में अपनी अस्मिता हम खो जाते हा तब हम सब उसी क्षण अश्वत्थामा हो जाते है. जिस क्षण हम किसी को संज्ञा दे देते है  उसी दिन हम दो पहचाने गढ़ते है उनकी और अपनी.  हर पुलिस वाला जो भ्रष्ट है उसके पीछे एक आम आदमी है जिसकी आवश्यकताएं असीमित है पर संसाधन सीमित. हर इंसान के पीछे उसका इतिहास होता है. किसी को संज्ञा देना उस इतिहास का ह्रास है. वास्तव में हम जनमानस ही है जिसमे सब कुछ निहित है सब अच्छा है सब बुरा भी है. हर उस दमन में हम हिस्सा लेते है या तो शोषक के रूप में, या तो शोषित के रूप में और अंत में मूक साक्षी के रूप में. हम ही है जो आदर्शो की वकालत करते है और हम ही है जो उन आदर्शो को अपने स्वार्थ के तले कुचलकर आगे बढ़ जाते है. और ऊनि आदर्शो में कुचले जाते है असंख्य अश्वत्थामा.

मैं जानता हूँ यहाँ से जाने के बाद आप सब भूल जायेंगे, आपके जीवन में विचारो में निर्णयों में कोई परिवर्तन नहीं आएगा. मेरी बातो का शायद ही आप लोगों का कोई असर हो, और भला हो भी क्यूँ. मैं भी तो उसी जुर्म का दोषी हूँ जिसमे आप लोग संलग्न है. बस एक बार घर जाकर दो मिनट चिंतन अवश्य कीजियेगा. कि हम संसार की सबसे भ्रष्ट संस्था है….. क्यूंकि हम जनता है. अश्वत्थामा कल भी मारा जाता था, अश्वत्थामा आज भी मारा जाता है, अश्वत्थामा कल भी मारा जाएगा, फर्क बस इतना है कि आज कृष्ण कहीं नहीं है…..

और ये सब मैं इसलिए नहीं कह रहा हूँ कि मुझसे आप लोगों से कोई आशा है बल्कि इसलिए कि मैं निराश हो चूका हूँ. अपनी ख़ामोशी से भी, अश्वत्थामा की मौत से भी. अश्वत्थामा रोज़ मरते है, कभी इंसान मरते है, कभी पहचान मरती है, कभी ज़मीर मरता है कभी ज़बान मरती है. पांडव कौरव लड़ते जाते है और अश्वत्थामा मरते जाते है. आज भी किसी कॉलेज में किसी घर में किसी दफ्तर में, कहीं मंदिर मस्जिद गुरुद्वारों में, कहीं चार दीवारों में अश्वतथामा मारा जा रहा है. लोगों को पहचानो के साँचो में मत डालो तो अच्छा, इंसान को इंसान ही रहने दो तो अच्छा, मैं बस एक हाथी हूँ न पांडव हूँ न कौरव हूँ, अपनी अहं की जीत में मुझे न मारो तो अच्छा. वरना कुछ और नहीं कह पाओगे बस यही बचेगा कहने को कि ……. अश्वत्थामा मारा गया….!!

भीड़ में छितरा हुआ सा

एक तिनका मैं भी हूँ

खून के इन आंसुओं का

एक कतरा मैं भी हूँ

भीड़ आती है

कुचलती है मसलती है

किस कदर ये जान मेरी

उफ़ मचलती है

जुल्मियों के इस जहाँ में

किसकी चलती है

इज्ज़तो के रास्तो पर

रूहे जलती है

 

हाँ मैं एक छोटा सा तिनका

घुटती जिसकी सांस है

कितने जन्म बीते यहाँ

मुक्ति की फिर भी आस है

जानता हूँ इस जगत का

मैं एक हिस्सा मात्र हूँ

आज भी इंसानियत के

तलवों में मेरा वास है

 

History student in an ahistoric world

-SANTOSH KUMAR

Being a history student is not an easy task. You are questioned for choosing humanities after 10th (not all history students come from humanities background but many do) by your friends, relatives and even your own parents. By the time of your graduation you have a brilliant response for your defense-“I am preparing for UPSC!” but this article is not meant to elucidate the struggles of studying history but rather the struggles of a history student when he or she faces the world whose ideology and vision of historic seems to be Ahistorical. The struggle to deal with the historical myopia of the society and the struggle to convince yourself that you are doing nothing wrong in challenging those rigid traditions- religious, patriarchal, societal, cultural which are so imbibed in our day to day living that they seems to be eternal and inevitable unless we realize that these notions are in itself Ahistorical.

For most people history is nothing more than “bunch of facts”. It is easier to demarcate, categorize and classify than to critically analyze, introspect and be subjective. So people will expect from you to churn out facts, dates, events and it will be an arduous task to explain the developments in the study of history and how history is no longer a narrative of kings and battles. People get disappointed when they expect facts from us and we deliver theories. But this is not a simple individual problem, but rather I am pointing out to a grave social problem- conflicting ideologies, which see history just as a tool to justify and further their ideological claims. A history student even though steers away from generalizations, judgmental, objective facts and clear demarcation of categories, every word you speak is seen as a representation of some or other ideology (and mostly people believe in two extremes- right wing and left wing). So if you questioned the notion of “Akhand Bharat” or Gupta age as a “golden period”, you will be deemed a communist and vice-versa. Every day when I have discussions on history with people, I am met with sentences like- “are you a communist?”, “do you support the JNU row?”, and I have to remind myself and the person that it has hardly anything to do with our discussion. When people insist to categorize me in any of their pre-decided categories I have to offer them new categories like “post-structuralist” or “post-modernist” (I don’t claim to be a exponent of any of these categories) and a very amusing response I got was- “I can’t even pronounce it, how am I supposed to believe in it!?”  We live in a world where people believe history to be Ahistorical. So the whole ancient period (many people think it being equivalent to Hindu period) is a glorious period which turned into rubble with the onslaught of invaders (predominantly Muslim). In short, people envisage history as long periods of changelessness and vice-versa, sudden and phenomenal changes. People who have just heard the names of big historians like Romila Thapar, R.S. Sharma criticize them rather uncritically for writing incorrect history (what they actually mean is that views of these historians doesn’t fit with our understanding of history).

They want to demarcate good history from bad history, and heroes from villains. They just don’t want history; they need sociological categories with a peppering of facts and figures. And this ahistoricity is maintained consistently in defining culture, institutions, and people. So Nation is Ahistorical, origin of Indian culture is untraceable, mythology holds truth here, and any attempt to explain otherwise is met with contempt. Deep inside, there is a lack of appreciation of historical knowledge. Every person thinks he knows history, and history is no special knowledge, but ironically, most people and even the ruling regime try to alter history according to their own vision and reuirements. History becomes a tool of commemoration, something people can take pride in, driven by political exegesis, expressed in a language that is in most parts rhetorical and pragmatic to the extent of being adamant.

A history student is grieved when we see such disregard for history. When we give new names to places to suit our historical understanding, and in the process manipulate history. When we decide to commemorate a particular version of history which glorifies one strata of society over other, it shows our attitude towards history. History student scorns at the absurdity of historical shows which are not only factually inaccurate (this is the least thing we expect from them), but also manipulative, communal and provocative. And we hate when we have to clear the web for people who don’t see any difference between history and mythology. So people will ask you questions on historicity of Ramayana and Mahabharata and here lies the biggest misery of a history student, because most people are very sensitive to religious issues and any explanation, no matter how historically well placed may offend their feelings. Secondly, when people ask you question related to religion, they are actually testing you (and later blame your response to your English medium education and neglect of Indian culture) or they have pre-conceived notions about the issue and what they want is an affirmation of their viewpoints, and unfortunately this is one thing that our historical mind is unable to churn out. Forget strangers, distant friends, or relatives you can’t convince your own parents that you are talking out of historical curiosity and not vengeance against religion and nation (we are not anti-nationals, we are not iconoclasts of religion, and we are just students of history). People will give us snippets on the evidence of Ramayana and Mahabharata, or the greatness of their religion or civilization; you are left with only two options- either keep on debating, posing arguments and counter arguments with no avail, or to face palm and nod in affirmation. People hate historical insights in religion, so they would question the authenticity of history (what is history capable of? History is speculative or history is imperfect, you will never be able to solve the mystery of our culture no matter how much you try, you are product of orientalist education, these are all some jibes thrown to us).

Forget deconstruction of language, culture, traditions, people are not yet comfortable to go beyond the elitist paradigm of history, beyond the political contours which could be memorized in fingers, and because you can’t explain them in your language, you have to explain them in their language, but even this process seem futile, for people perceive history as chronology and account of kings and queens. How ironical is the condition where people are unwilling to know about their own existence because their mind is laden with accounts of a class unrelated to their past or present. They are better off either lamenting the loss of an elitist cultural glory or creating modern discourse out of an objective demarcation of categories of oppressor and oppressed. The world is not ahistoric, but the way we identify history, we have made our own existence Ahistorical. And by perceiving history as dead and buried past, we are making our present seem Ahistorical. Walking down the lanes, a history student see the changing histories- every moment of our existence that is part of history, he see the new history books of the new regime, the new nomenclatures for place, new commemoration, he is seeing history being changed every minute everywhere, but deep somewhere in the lanes of history, there is a tunnel where all changes are sucked by the darkness of mind, and all that is left is a stagnant world with a history that is so Ahistorical.